हनुमान स्तुति

 



जय महावीर हनुमान प्रभू  ,
अब संकट  सारे  दूर करो ।


हे!अंजनि सुत मारुति नन्दन,
है संकट  मोचन नाम  तेरो ।


तब देवों  के दुःख  दूर करे ,
अब हम मनुजों पर कृपा करो ।


जय महावीर हनुमान प्रभू ,
अब संकट  सारे दूर करो ।


हे!  अनिल पुत्र हे!पवन तनय ,
अब तुम ही जग पर दया करो ।


हे! अंजनि सुत मारुति नन्दन ,
है   संकट  मोचन नाम तेरो ।


सँजीवनि लक्षिमन हित खोजी ,
तब  उनके प्राण बचाये थे ।


सीता   माँ को मुदरी देकर ,
दुःख उनके तुम हर  आये थे ।


दुःख राम प्रभू का दूर किया ,
अब हम बच्चों को क्षमा करो ।


जग सौंपा  प्रभु ने है तुमको ,
प्रभु जग वालों को क्षमा करो ।


हे! अंजनि सुत मारुति नन्दन ,
है संकट   मोचन  नाम तेरो ।


सुषमा दीक्षित शुक्ला


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image