गीत


सुख दुख के घरी बा त, ऊपर आसमान बा 
ललकि किरिनिया में साहस के बिहान बा, सुख... 


परबत लेखा हो दुखवा सिरवा टरेला 
सांसतो में साहसी अदिमिया बिचरेला 
हिम्मते खुदा हो बा, हिम्मते भगवान बा, सुख...। 


लेई के चंगलुवा में हारिल उड़े लकड़ी 
अझुराले अपने हो जलवा में मकरी 
फंदा के ऊ तुरी देला जेकरा गेयान बा, सुख...। 


नदिया के धार से किलोल करे मछरी 
जिनगी से हार नाही माने कबो सफरी 
जिनगी जीए के एके ना ढेरे परमान बा, सुख....।


विद्या शंकर विद्यार्थी 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image