गीत






दर्द भरी दुनिया में दर्द ही सहारा जो रहा 

खास जब गैर हुए, गैर ही हमरा जो रहा 

 

थमते आँसू भी कैसे इस मुकद्दर के अपने 

दर्द औरो का नहीं, ये दर्द हमरा जो रहा 

 

लोग कहते हैं नदी से मिलकर तो देखो

नदी में डूबता रहा, दूर किनारा जो रहा 

 

हम तो अब दर्द के हासिये पर आ पड़े हैं 

दर्द का आलम है, ये दर्द हमरा जो रहा 

 

जब कोई बात न बनी तो भी बनायी मैंने 

मैं तो अब दुनिया में बचा आवारा जो रहा ।

 

विद्या शंकर विद्यार्थी 

26/06/2020





 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image