गज़ल


"दिल दरिया ना आंख के पानी होला
ना जाने उ कब केकर कहानी होला
छिपावे के कोइ भी चाहे कबो केतनो 
हिया में इ त हरदम समाइल रहेला

मत पूछी की रात बात का-का भइल
आंख से आंख के साथ का-का भइल
कबहीनो हिया से सटल, कभी दूर होलें
कह दीं मुलाकात में अब का-का भइल

बुनी चुअत रहे रात भर पलानी भले
गुदरी में लुकायिल रहे जवानी भले
पर उड़ान त साँचहुँ महलिये के होला
बीतल रतीये के कहानी रहे त 
भले

दरद माटी पर लिखीं चाहे माटी से लिखीं
दरद के जोर से भले त रवानी हीं लिखीं
लिखीं जेतना दरद रउआ निरे भरल
तनीं नयनन के लोर के कहानी भी लिखीं,,,,,,,
********
© डॉ मधुबाला सिन्हा
मोतिहारी
22 जून 2020 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image