गंगा मां के विभिन्न नाम

 



भागीरथ के तप का प्रतिफल, 
जटाशंकरी कहलाई शिवाया।
जहृनु ऋषि की पुत्री जाह्नवी ने,
देवनदी का रुप अपनाया।।


उत्तरवाहिनी ने करके कल-कल,  
जड़ी-बूटियों का अमृत बिखराया ।
देवनदी का पहन के चोला, 
मंदाकिनी ने भूमि पर धन उपजाया।। 


मुख्या की निर्मल - अविरल धारा ने, 
मानव को दुष्कृत्यों से मुक्त कराया।
मुक्तिदायिनी है पावन गंगा
जनकल्याण करना इसने ही सिखाया ।।


अंजु गुप्ता


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image