आओ करें हम जल का दान

 



महाज्ञानी थे
ऋषि मनीषी 
जल की महिमा का 
था उनको ज्ञान ।
जरूरत को जोड़ कर 
व्रतोपासना से 
हमें करना सिखाया 
जल का सम्मान ।।


निर्जला एकादशी को
रह कर प्यासा
समझे मानव 
पुरखों का ज्ञान।
बूंद- बूंद को 
रखो सहेज कर 
जल में बसते हैं 
हम सबके प्राण ।।


भीषण गर्मी में
जल करके वितरित
मानव सीखे 
करना कल्याण ।
जल जीवन है,
है अनमोल रत्न यह
आओ करें हम जल का दान।।


अंजु गुप्ता


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image