वो या हूँ मैं

 



लगी आज होड़ बादल से कि दीवाना वो या हूँ मैं
जानएजाँ की ख़ुशी पे दिल लुटाता वो या हूँ मैं


मोहब्बत के फ़साने को गा रहा वो या हूँ मैं
ज़िंदगी गैर को अपना बना रहा वो या हूँ मैं


दिल के तार को दिल तक जोड़ता वो या हूँ मैं
जमाने को प्यार करना सिखलाता वो या हूँ मैं


रुमानी शायरी दिल से छेड़ता वो या हूँ मैं
प्यार को बेशुमार करके निभाता वो या हूँ मैं


गैरों में भी अपनापन ढूँढ लेता वो या हूँ मैं
स्नेह की अनगिनत दौलत लुटाता वो या हूँ मैं
~अतुल पाठक 
 जनपद हाथरस 
  (उत्तर प्रदेश)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image