साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती


पूर्ण नाम – श्याम कुँवर भारती 
साहित्यिक उप नाम – भारती 
जन्म तिथि -30/01/1970 
जन्म  स्थान – मकोली ,बोकारो 
वर्तमान पता- ढोरी स्टाफ कालोनी ,पोस्ट – ढोरी 
                   जिला -बोकारो ,पिन -825102 ,झारखंड 
स्थायी पता – ऊपर जैसा 
भाषा ज्ञान – हिन्दी , अँग्रेजी ,भोजपुरी 
चित्र -सलग्न 
राज़्य – झारखंड 
ग्राम /शहर – ढोरी ,बोकारो 
कार्यक्षेत्र – समाजसेवा ।लेखन 
सामाजिक गतिविधि – महासचिव – महीला कल्याण समिति ढोरी
राष्ट्रीय महासचिव -काव्य कुटुम्ब
प्रांतीय संगठन मंत्री - राष्ट्रीय कवि संगम झारखण्ड इकाई,
राष्ट्रीय मंत्री -आभास,भारत
Cag मेंबर ट्राई भारत सरकार,
उप संपादक सह एडमिन सदस्य सामयिक परिवेश
लेखन बिधा -गीत ,गजल,भजन ,कविता, लघु कथा ,कहानी ,नाटक |
मोबाइल/व्हातसप-9955509286
प्राप्त सम्मान ,पुरस्कार- महामहिम राष्ट्रपति पुरस्कार (सामाजिक कार्यो हेतु )
ब्लॉग-  shyam kunvar bharti blog spot
प्रकाशित पुस्तकें दो रुपए ,जज्बा ये वत न परस्ती काव्य संकलन
लेखनी का उद्देश्य – साहित्य सेवा /हिन्दी का प्रचार प्रसार 
सदस्यता /सहयोग राशि (हिन्दी कार्य प्रगति निमित )- यथा संभव 
पसंदीदा लेखक – मुंशी प्रेमचंद
 प्रेंरना  पुंज – सुभद्रा कुमारी चौहान 
विशेषता – लेखन समाज  सेवा 
देश और हिन्दी भाषा के प्रति आपके विचार (मात्र चार पंकतियों मे ) 
हिन्दी भाषा राष्ट्र भाषा है |देश को एक सूत्र मे बंधनेवाली है |सबसे मीठी और सरल भाषा है | इसमे सभी रसो का समावेश है |


 


भोजपुरी गीत-


आफत मे पड़ल जान 


गरवा मे अटकल मोर परान गोरिया |
आफत मे पड़ल  अब  जान गोरीया |
तोहरो सुरतिया मोबाइल मे निहारीला |
बैरी कोरोनवा के बेर बेर धिक्कारीला |
सगरो नगरिया लउके सुनसान गोरिया |
आफत मे पड़ल  अब  जान गोरीया |
कैसे आई घरवा लगल लॉक डाउनवा |
पिरितिया के मारल लगे नाही मनवा |
हथवा मेहंदीया भइल नुकसान गोरिया |
आफत मे पड़ल  अब  जान गोरीया |
टूटी लॉकडाउन बिना गाड़ी भागी हम आइब |
सिनुर टिकुली काजर तोहरा लागि हम लाइब |
जवनिया जनी करिहा जिआन गोरिया |
आफत मे पड़ल  अब  जान गोरीया |
कोरोना कलवा से बची के तनी रइहा |
घरवे मे रइहा कबों बहरा ना जइहा |
कोरोनवा के मचल घमासान गोरिया |
आफत मे पड़ल  अब  जान गोरीया |


श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी 
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image