प्रेम की परिभाषा..

 



इस तस्वीर को
देखकर यह ख्याल आया..


न जाने क्यूं लोग..
प्रेम की परिभाषा..


फूल,पत्ती, चांद-सितारे
बादल, बरखा,नग्मों से देते है..


परिभाषा तो ऐसी हो जो
रेगिस्तानी  घुल की तरह


चमकीली,चटीली और गर्म
होनी चाहिए...


जिसमें नागफनी का पौधा
बिन पानी के भी लहलहाती रहें


फिर ख्याल आया...
रेगिस्तान की घुल से..


जयपुर की गुलाबी
गलियों का सफर..


उस मदमस्त हंसिनी के लिए
कितनी सुखद होगी?


जो जलते बुझते...
अपनी रंगत बिखरते..


झारखंड की हरियाली में
अपने प्रेम को भी रंग ले जाये..


अद्भुत होगा न वह मिलन
सच में अलौकिक...


,जैसे..कोई मृगतृष्णा
या फिर कस्तूरी के लिए
भटकती हिरण...


नीलम बर्णवाल


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image