नवगीत

 



कंजल अश्रुओं में घिरा ज्यों
केश सावनी लहराई ।


मौसम ने अंजुली भरे
देखो सौंपी स्वीकृतियाँ
सुगंध फैला गयी यहाँ 
आकर चंचल आकृतियाँ 


घुमा केश की गुंथित वेणी
लहर पावनी मुस्काई ।
कंजल अश्रुओं में घिरा ज्यों
केश सावनी लहराई ।


तंद्रा सी टूट गई क्यों 
यहाँ अनबोले तार की
अपनापन भी घोल गई
आज संध्या शनिवार की


गीत धमनियों के सुनते ही
बोली भावनी परछाई ।
कंजल अश्रुओं में घिरा ज्यों
केश सावनी लहराई ।


अनिता मंदिलवार सपना 
व्याख्याता जीवविज्ञान 
अंबिकापुर सरगुजा छतीसगढ़


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image