लाक डाउन की चुनौतियां ही भविष्य की उम्मीद हैं ,इनसे बहुत कुछ सीखा है

 



सुषमा दीक्षित शुक्ला


जानलेवा वायरस से पूरी दुनिया ने काफी कुछ सीखा है ।इस वायरस ने दुनिया को भविष्य में आने वाले संकट से वर्तमान में ही तैयारी करने की जो सीख दी है उसका असर भविष्य में जरूर दिखाई देगा। कोरोनावायरस मे दुनिया के कई देशों ने जारी लॉक डाउन ने  सरकारों और लोगों को कुछ बातें जानने और समझने का मौका दिया है। यह वह बातें जिन को ज्यादातर लोग नकारते आ रहे थे। उनका मानना था कि ऐसा हो ही नहीं सकता लेकिन ऐसा हुआ है ,इसलिए यहां पर यह कहना गलत नहीं होगा कि दुनिया में कोई चीज बेवजह या पूरी तरह से गलत नहीं हो सकती। हर चीज का कुछ ना कुछ मकसद होता है, कुछ ना कुछ वजह भी होती है जो समय के साथ सामने आती है।
 आइए बताते हैं कि कोरोना से  हमने क्या सीखा ?
कोरोनावायरस के चलते दुनिया को भविष्य में आने वाले हर खतरे से आगाह कराया है जिसके लिए हर वक्त तैयार रहना होगा ।ऐसे खतरों से निपटने के लिए वर्तमान में तैयारियां भी बड़े पैमाने पर करनी होंगी ।इसने पूरी दुनिया के कदमों को  तो रोका लेकिन साथ ही विभिन्न देश एक दूसरे की मदद को भी आगे आए और एक दूसरे की मदद की ।  आर्थिक चपत  तो  कोरोना ने वाकई लगाई लेकिन मानवता को बचाने का लक्ष्य सभी देशों को एक साथ लेकर आया ।अर्थव्यवस्था में मंदी की परवाह न करते हुए सभी ने जरूरी कदम पहले उठाए ।इसकी  वजह से जो भविष्य  मे बदलाव के संकेत दिखाई दिए हैं वह काफी अहम है ।भविष्य में इन्हें नकारना संभव नहीं होगा ।ऐसे कई बड़े बदलाव भविष्य में होंगे जो दुनिया को नई दिशा देंगे और तरक्की की राह पर आगे लाएंगे। राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय  बैठको के लिए अब बड़े तामझाम की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि यह सब वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगा इससे तमाम प्रकार के फालतू खर्चे बचेंगे ।कोरोना ने लोगों को घर में बैठकर काम करने की जो सीख दी इसे भविष्य में व्यापक तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा।
 चीन ,पाक ,भारत आदि देशों में सबसे अहम की जो सामने आई वह ,स्वच्छता ,कोरोनावायरस होने से साफ जलवायु युक्त वातावरण मिला है जो बेहतर स्वास्थ्य देकर अन्य कई बीमारियों से बचाव करेगा ।
लोगों ने महसूस किया है कि बेवजह सड़कों पर निकलना एवं वाहनों को निकालना ठीक नहीं, इससे दुर्घटनाओं व अपराध दर में भी कमी रहेगी ।कोरोना के लॉक डाउन मे लोगों को घरों या अपनों  का महत्व  भी दिखा दिया है परिवार व पड़ोस को महत्व  देना सिखा दिया है ।
 पहले सरकार  लोगों द्वारा प्रदूषण मुक्ति  में भागीदारी चाहती थी तो लोग काफी तूल देते थे और  अब खुद ही तैयार होंगे एवं सदैव साफ सफाई रखेगे ।
 सामाजिक जगहो पर शारीरिक टच की ओट मे महिलाओं से अभद्रता पूर्ण व्यवहार किया जाता था जो कि सोशल डिस्टेंस के चलते भविष्य में समाप्त हो जाएगा ,क्योंकि अब  दूर से ही नमस्कार से काम  चलाना होगा। नमस्कार पद्धति तो पूरा विश्व ही अपना रहा है जो कि भारत की प्राचीनतम परंपरा रही है ।अब आगे भी  यही रहेगी  ।इन चुनौतियों पर सुंदर भविष्य की दीवार खड़ी है ।लोगों ने कम खर्चे में  ही अपना घरेलू खर्च उठाना शुरू कर दिया है।फिजूलखर्ची  बंद  हो गईं ।  इस लॉक  डाउन से मानवतावादी दृष्टिकोण, स्वदेश प्रेम ,स्वच्छता ,परोपकार , भाईचारा ,मैत्री ,सहयोग ,परमार्थ आदि मानवीय गुणों को विकसित कर दिया है जो भविष्य मे काम  आयेगा ।
योग ,प्रार्थना ,सदाचार ,दयाभाव , घरेलू कामो मे आत्मनिर्भरता  ,रचनात्मकता ,सृजनात्मकता,आदि मानवीय गुणों को निखारा है ।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image