कलेजा हिल गया

 



नेह अगाध उर में समाये,
धारण करती पीड़ाओं को।
भरती फिर नव प्राण शिशु में,
भूलना मत क्रीड़ाओं को ।


भ्रमित नहीं होना शिशु मेरे,
तुझपर मां की अनुकम्पा है।
जब तक धात्री इस जग में,
हर दु :ख उससे शर्मिन्दा है।।


आलिंगन में बंध मन उसका,
परिपाटी नव प्रेम सीखता है।
रीता मां मेरा जीवन बिन तेरे,
शिशु मां से बस यह कहता है।


नहीं प्रेम की भाषा कोई,
फिर भी प्रेम अनन्त करें ।
नहीं विश्लेषित रिश्ता ये प्रेम का,
मां सबसे प्रेम अनन्त करें ।।


आज नियति के द्वारा फिर ,
ममता मां की छली गई।
छोड़ निरीह अबोध बालक को,
मां अन्तिम प्रयाण पर चली गई।।


मां बिन कैसा जीवन में,
यह नन्हा शिशु रह पायेगा।
क्या उस परम प्रभु को भी,
उसपर तरस न आयेगा ।।


कष्ट हज़ारों दे देना पर ,
मां की गोद छीनना मत ।
मां है तो जीवन इस जग में,
मां को है नमन शत शत ।।


रंजना शर्मा


सर्वाधिकार सुरक्षित
स्वरचित
रंजना शर्मा ✍️


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image