इश्क के समंदर में


#जाफ़रानीइश्क़ से


ख्वाब बनकर तेरी रातों में नजर आऊँगीं मैं!
भूलना चाहो भी तो पलकों में उतर आऊँगीं मैं!!


गज़ल बनकर तेरे होंठों पर गुनगुनाऊँगीं!
नज़्म सी रच तेरे सीने में सँवर जाऊँगी मैं !!


रजनीगंधा सी महकेगी मेरे यादों की गली!
खिले गुलाबों सीे तेरे तन पे मुसकुराऊँगी मैं!!


#शज़र सी बन तेरे मन को शीतलता दूँगी!
बनके तुलसी तेरी आँगन को महकाऊँगी मैं!!


नदी बन के उतरूँगी तेरे इश्क के समंदर में!
दिल की झील में कँवल सी खिलखिलाऊँगीं मैं!!


किरण मिश्रा #स्वयंसिद्धा
नोयडा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image