हमारी स्मृतियों की महक...

 



स्मृतियों की महक
बड़े कमाल की होती है
बिखर जाते है
जीवन के कई रंग
रूप और काया
बस न बिखेरती
इन स्मृतियों की खुशबू….


वे सदैव ही..
रचती बसती है
अपनी ही अलग
दुनियाँ के पैमानों में..


कभी चांद तो कभी चकोर बनकर
कभी ओस तो कभी धुल बनकर
 कभी दीया तो कभी बाती बनकर


 कोई एक लम्हा..
 अच्छे बुरे  पल...
भुलाए नही भुलता...
जब अपने प्रिय जन की याद..


हँसाती रुलाती और


दिल को बहलाती हुई सी
किसी गंगा से निर्मल
अश्रु धारा की सैर कराती है


वह पल...किसी 
अमृत रस से कम नही होता
बल्कि...अनुभूति होती है
माँ के स्तन से टपकते
दूध की...


जो उसके गर्भ में
धारण करते ही
अनायास ही आ जाते है...


ऐसी ही होती है..
हमारी स्मृतियों की महक....


नीलम बर्णवाल


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image