हाइकु

 



 


आंखें तरेरे
सूरज गगन में
गर्मी बिखेरे।
                कोरोना काल
                पलायन करता
                श्रमिक वर्ग।
भयाक्रांत है
कोरोना के डर से
ये जग सारा।
                मज़दूर है
                बेहाल फटेहाल
                कोरोना काल।
कोरोना डर
लौटते मजदूर
अपने घर।
                मजबूर है
                प्रवासी मज़दूर
                अपने देश।
कोरोना काल
घर पर ही रह
बाहर न जा।
                 कोरोना मार
                 तू हिम्मत न हार
                 होगी न हार।


 डॉ संगीता पांडेय"संगिनी"
(स्वरचित)कन्नौज


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image