हाइकु

 


मेघा जो छाए
तृप्त हुई बसुधा
ग्रीष्म ऋतु में।
                  तपती धरा
                  पैदल मजदूर
                  अपने गाँव।
खुली खिड़की
घरों में रहकर
झाँके बाहर।
                  सूनी गलियाँ
                  चलरही है जंग
                  कोरोना संग
लॉक डाउन
कोरोना वायरस
पाँव पसारे।
                  सबके संग
                  कोरोना करता है
                  आँख -मिचौली।
वक़्त कठिन
मत हो परेशान
कट जायगा।
                  जीतेंगे जंग
                  वायरस से हम
                  माने न हार।


डॉ संगीता पांडेय"संगिनी"
(स्वरचित)  कन्नौज


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image