ग़ज़ल

 


वो है खाब मेरा हकीकत नहीं है


मेरी ज़िंदगी की जरूरत नहीं है।


खुदा क्या तेरी हम रवायत नहीं हैं
की जो हमने पूजा इबादत नहीं है।


अभी छोड़ दो बात बीते दिनों की
वो थे शौक मेरे प आदत नहीं है।


बड़ी बेरहम है हकीकत की दुनिया
यहाँ हसरतों की हिफाजत नहीं है।


शहद से भी मीठी हैं बातें  तुम्हारी 
कहूँ मैं कैसे की मुहब्बत नहीं  है।


मुहब्बत की शिद्दत वो समझेंगे कैसे
निगाहों में जिनके ज़हानत  नहीं  है।
स्वरचित 
अर्पना मिश्रा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image