दोहा गीत

गाँव वापसी कर रहे, मेहनती मजदूर


 पर ही चल रहे ,पग पग ही अति दूर।
गाँव वापसी कर रहे,मेहनती मजदूर।


रोजी रोटी के लिए ,छोड़ दिया घर-बार
आई ऐसीआपदा, मचता हाहाकार।
देख आदमी डर रहे, आया यह तूफान।
किसने सोचा आ पड़े,ऐसा वक्त भी जान।


कहते तभी सुजान हैं, मत करो तुम गुरुर।
गाँव वापसी कर रहे ,मेहनती मजदूर।



देश नहीं परदेस भी, कोरोना जंजाल।
रक्तबीज  सा बढ़ रहा,इसका यही कमाल।
अब जाना है गाँव में,छोड़ शहर का काम।
अपनो के ही साथ मे,मिलता है आराम।


आये अब क्यों सोचते,मजदूरी को दूर।
गाँव वापसी कर रहे,मेहनती मजदूर।



विपदा में ही देख लो, आते अपने याद।
ढूंढते फिरे कौन है,हर ले जो अवसाद।
वापस लौटो मन कहे, पहुँचो अपने गाँव।
याद बड़ी है आ रही,पीपल की वह छाँव।


तन तो घायल है बड़ा,मन भी दुख से चूर।
गाँव वापसी कर रहे ,मेहनती मजदूर।।
रश्मि लता मिश्रा
बिलासपुर सी जी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image