दिल की पीड़ा

 



दिल में इक लहर सी उठाए तो कोई 
नीयत- ए -शोख़ से जगाए तो कोई 


ज़हर  ही  ज़हर  भरा  है  सीने में 
जिंदांने -शवे- तार से  बचाए तो कोई 


तरस गया हूँ कब से खुद को मिलने को 
मुझको कभी मुझसे ही मिलाए तो कोई 


तमन्नाऐं  मर  चुकी फिर भी  तमन्ना  हैं 
अरमान  जगाए  कोई  मुझको बहलाएं तो कोई 


मेरा कोई नही फिर  भी पुकारता रहता हूँ 
मेरी इस उलझन को सुलझाए  तो  कोई 


दिल के जख्मों  पे चोट  खाए  हुए  हूँ  
दिल की पीड़ा को और बढ़ाए  तो कोई 
                           अशोक कीर्ति


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image