दिल की आवाज़

लफ्ज़ खोने लगें अपने माने जहाँ
फिर वहाँ ठीक होती हैं ख़ामोशियाँ


मसअले दिल के आपस में सुलझा लें हम
तूल देने से बढ़ जाएगी दूरियाँ


हिज़्र में उनके, काजल बिखरने लगा 
और  उड़ने लगी रूप की शोखियाँ
 
लब तो ख़ामोश रह कर सिसकते रहे
शोर करने  लगीं  हैं  मगर  चूड़ियाँ


वक़्त रहता नही है सदा ऐक सा
मुस्कुराहट कभी है कभी सिसिकियाँ


रोते रोते  दुआ तुझको देता है दिल
हों मुबारक तुझे  मेरी  बरबादियाँ


कांची सिंघल "ओस"


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image