अमरबेल


छूकर अरुणोदय धरा -गगन झंकृत होता नव मधुर गान।
अलसाई आंखो से प्रमुदित कलियों का करके मधुर पान।


बूँदों से झंझावात लिए कण-कण में तरुणाई घोली ज्यों।
मुग्धा प्रेयसी खुद चल करके साजन से मिलने आई क्यों।


मनुहार किये सहमे आंचल से पवन झकोरों से सहलाने।
जैसे पथ गामी भटक गया मन मगन झरोखे से बहलाने।।


पग- पग से कोई कमल धरे धारण धात्री ज्यों  कामुक हो।
रसरंग सुगंधित प्रतिबंधित आकाश मिलन के सम्मुख हो।


देवों ने पुष्पबृष्टि करके अद्भुतअभिनन्दन बर्ष मनाया हो।


चंदन बंदन कर सृष्टि ने मनोरम विहंगम दृश्य सजाया हो।


फूली हो कचनारि प्रफुल्लित ज्यों कमल नाल शरमाई हो।
झर-झर  झरने आनन्दित मन फिर अमर बेल हरसाई हो।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image