अच्छी समझ को दीमक की तरह खा जाता है अवसादः डा. शिवकुमार

हरिद्वार । चिंता का विकृत रूप ही अवसाद (डिप्रेशन) है। अवसाद व्यक्ति के सोचने-समझने की शक्ति पर ऐसा प्रहार करता है कि व्यक्ति समाधान से जुडे सभी रास्ते एक के बाद एक स्वतः ही बंद कर लेता है और अन्त मे अज्ञानता की ऐसी अंधेरी कोठरी मे जा बैठता है जहां व्यक्ति के पास अच्छी समझ पहुंचने के प्रयास समाप्त हो जाते है। इसके दुस्परिणाम के कारण ही समाज मे आत्म हत्याएं जैसी घटनाएं बढती जा रही है। गुरूकुल कांगडी विश्वविद्यालय के शारीरिक शिक्षा विशेषज्ञ एवं मनोवैज्ञानिक डाॅ0 शिव कुमार ने स्टेªस मैनेंजमेंट डयूरिंग कोविड-19 विषय पर आयोजित एक अन्तर्राष्ट्रय वेबिनार मे यह बात कही। उन्होने कहाॅ कि समाज मे बढते भौतिक आकर्षण के प्रभाव तथा उनकी प्राप्ति मे विफल होने पर व्यक्ति अवसाद से ग्रसित हो जाता है, जिसके परिणाम स्वरूप व्यक्ति मे अच्छी समझ कम होती जाती है और काल्पनिक समझ हावी हो जाती है। अर्थात यह अवसाद अच्छी समझ को दीमक की तरह खा जाता है। इसके समाधान के लिए उन्होने पारिवारिक एवं सामाजिक जागरूकता फैलाने पर जोर दिया। डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, आगरा के सरस्वती पी0जी0 काॅलेज, हाथरस द्वारा 18 मई को एक अन्तर्राष्ट्रय वेबिनार भारत सरकार के युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय की अधिकृत संस्था नेशनल स्पोटर्स प्रमोशन आर्गनाइजेशन तथा फिजिकल एजूकेशन फाउन्डेशन आॅफ इण्डिया के संयुक्त तत्वावधान मे आॅनलाईन आयोजित की थी, में प्रतिभाग करते हुए डाॅ शिव कुमार ने अवसादः समस्या एवं समाधान विषय पर अपनी बात रखी। इस अवसर पर फिजिकल एजूकेशन फाउन्डेशन आॅफ इण्डिया के राष्ट्रीय सचिव डाॅ0 पीयूष जैन, काॅलेज प्रिंसिपल डाॅ0 जगदीश यादव, आयोजन सचिव डाॅ0 स्वतेंन्द्र सिंह, सहित शारीरिक शिक्षा जगत के विझान एवं छात्र उपस्थित रहे।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image