तुझको नमन है मेरा

 


आज मेरे दिल को बड़ा सकून आया है ।
आज ही शाम मेरे साथी का फोन आया है ।। 


है शब्द नहीं कोई कैसे बयां करूं मैं ।
बस शुक्रिया है रब का साथी से जो मिलाया ।।


खुशियों का ना ठिकाना घड़िया भी थम गयीं थीं ।
कानो में शहद बनकर दिल में  उतर रही थी ।।


आवाज मीठी- मीठी मन को लुभा रही थी ।
हर शब्द पर हमारे  वो खिलखिला रही थी ।।


जितनी तड़प थी उसमें 
शायद नही थी मुझमें ।
मेरे  हृदय के टुकड़े की आग वो तपिश थी।। 


पल भर में शांत ज्वाला मन की वो कर गयी थी।
बेजान जिस्म में मेरे नव प्राण भर गयी थी ।।


फिर भी कसक है बाकी है दूर हमसे साथी ।
बनके पवन तू आजा आजा तू मेरे साथी ।।


बनके पवन तू आजा आजा तू मेरे साथी ।
मुझको न भुला देना तुम याद रखना  साथी ।।


सांसें हैं मेरी चलतीं सांसों से तेरे साथी ।
तुझको नमन है मेरा शत्कोटि मेरे साथी ।।
सुरेन्द्र दुबे
(अनुज जौनपुरी)
kavyamalakasak.blogspot.com


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image