तेरे  साथ चलते - चलते

 



मुझे  राहें   मिल  गई  थी
तेरे  साथ  चलते - चलते


हम तो राह भटक गए थे
ना दर था ना थे  ठिकाने
गैरों  से  अपने  बन  गए 
तेरे  साथ  चलते - चलते


अपनों  ने सितम थे ढाये
सभी  हो  गए  थे  पराये
अंजानों  ने  दामन थामा
तेरे  साथ  चलते - चलते


बसती बस्ती जल गई थी
मेरी  हस्ती  मिट  गई थी
बस्ती- हस्ती मिल गई हैं
तेरे  साथ  चलते - चलते


गम के बादल छा गए थे
उर पे बिजली ढ़ा गए थे
सुखविंद्र  मुस्कराने  लगें
तेरे साथ  चलते - चलते


मुझे  राहें  मिल  गई  थी
तेरे  साथ चलते - चलते


सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image