मन तू क्यों कलुषित होता है

 



मन तू क्यों कलुषित होता है,


इस भौतिकता की दुनिया मे।।


अभावो का क्रंदन करता है,


देख परायी प्रभुता को तू।।


अपने को क्यो नीरस करता है।।


जो तेरा है तुझको मिल के रहेगा


अटल सत्य यह प्रकति नियम है।।


मन संतोष कर तू आगे बढ़,


मन कर्म प्रधान  तू होकर बढ़।।


भय मुक्त तू होकर आगे चल,


सत्य के पथ पर तू आगे बढ़।।


सच्चे मन से तू आगे बढ़,


रे मन स्थिर होकर तू लग जा।।


संकल्पित पथ आगे बढ़ जा,


कपट द्वंद से नाता छोड़ जा। ।


मन अपने सुविचार मान जा,


सत्य संकल्प के पथ पर बढ़ जा।।


कुछ करने की जिद में बढ़ जा,


संसय छोड़ के आगे बढ़ जा।।


ईर्ष्या कपट को छोड़ के बढ़ जा,


कुविचारों को छोड़ के बढ़ जा,।।


कलुषित मन से निकल के बढ़ जा,


उन्नति के पथ पर तू बढ़ जा,।।


जो तेरा है तुझको मिल के रहेगा,।।


संसय इसमे कभी न रहेगा,


सत्य सत्य ये सत्य रहेगा,।।
                             पी एन त्रिपाठी,,


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image