कुंडलिया छंद-


होली पर जो प्यार के,डाले हमने रंग।
फीके सारे  हो गए, लोग करें  हुडदंग।।
लोग करें हुडदंग,तोड़कर  हर मर्यादा।
रहा नहीं कुछ याद,किया जो खुद से वादा।
घूमें लिए गुलाल,साथ में रंग की झोली।
पीकर घूमें भांग,कहें सब आई होली।।1


होली में भी हैं नहीं,सखी पिया जी साथ।
मुझे अकेली देखकर, देवर पकड़े हाथ।
देवर  पकड़े हाथ, गाल पर  रंग लगाए।
आती मुझको लाज,नहीं पर वह शर्माए।
आगे  पीछे  घूम, करे है  रोज़  ठिठोली।
मुझे लगा  लो अंग,कहे वह  आई होली।।2


होली के त्योहार की,बड़ी निराली बात।
रंग- बिरंगे  हो गए,सबके  ही जज़्बात।।
सबके ही जज़्बात,हिरन से भरें कुलाँचें।
बूढ़े  हुए  जवान ,प्रेम  की  चिट्ठी  बाँचें।
डालें सब पर रंग,भिगाएँ अँगिया चोली।
उम्र जाति सब भूल,मनाएँ मिलकर होली।।3
        डाॅ बिपिन पाण्डेय


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image