ग़ज़ल

 



जख़्म अब अपना पुराना हो गया।
देख उनको मुस्कुराना हो गया।।(१)


आ गये हम छोड़कर खुद को वही,
बंद अब जिस राह जाना हो गया।(२)


अब चलो छोड़ो मुझे बस हो गया,
दिल्लगी तुझसे निभाना हो गया।(३)


मैं सुनाऊँ दिल की अपने किस तरह,
तू सनम कबका बेगाना... हो गया।(४)


है श़ज़र बूढ़ा मगर उस.... छाँव में,
मुफलिसों को इक ठिकाना हो गया(५)


लगती थी चौपाल जिस पीपल तले,
काटकर सड़के बिछाना हो गया।(६)


थी ज़रा सी जिंदगी भी गाँव में,
ये शहर तो मौत जाना हो गया।(७)


प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'
गोरखपुर, उत्तर प्रदेश


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image