चन्दा और चकोर मिलेंगे,

 



चन्दा और चकोर मिलेंगे 
आज   सुहानी रात में ।


अपना भी तो मदिर मिलन है,
फूलों  की  बरसात  में ।


जग से छुपकर आयी प्रीतम,
दिल   लायी  सौगात  में ।


सीने से तुम मुझे लगा लो ,
लो हाथ हमारा  हाथ  में ।



नयनों की डोली ले आओ ,
लेकर  जाओ   साथ  में ।


सच कहती हूँ प्यार लुटाऊँ ,
सुबह  शाम  दिन रात  में ।


नहला दो तुम आज प्यार से ,
बहके से   जज्बात  में ।


तुम बिन रहा न जाये प्रीतम,
चैन न  दिन ना  रात  में ।


दूल्हा बन ले जाओ अब तो,
जनम  जनम  के साथ मे ।


चन्दा और चकोर मिलेंगे ,
आज  सुहानी  रात  मे ।


सुषमा दीक्षित शुक्ला


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image