अल्फ़ाज में कह देती हूं

 



बे तकल्लुफ हूं 
परवाह नहीं करती 
बात अपने दिल की 
अल्फ़ाज में कह देती हूं ।


थाम के तुम को 


बहुत मुश्किल था मेरा 
यूं वापस लौट जाना 


मैंने उस राह को ही 
मंजिल बना लिया है 


एक इंतजार यूं अपनी 
आंखो में बसा लिया है 


तुझे ना भूलूं यही 
मुकददर बना लिया है 


जज्बातों के दरिया में 
जो तूने बहा दिया है 


मैंने थाम कर फिर उसको
 अपना ख़्वाब बना लिया है 


बहुत मुश्किल था क्यों कि
 मेरा यूं वापस लौट जाना


तनीशा मीशा


MAnNisha misha


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image