फागुन

 



फागुन के महीने में ,
रंगों की बहार आयी ,
दिलों में प्रेम भर लाई,
मिलजुल खेलेंगे होली ,
 बैर दिलों से मिट जाएंगे ।
  फागुन के महीने में------
 


फाग गीतों से सज गई,  
मतवालों  की टोली भी ,
भांग ठंडई कि चढी खुमार ,
महादेव की लगी जयकार।
फागुन के महीने में---------


   हँसी ठीठौली करके हम,
   सखीयाँ खेली खुब होली,
  कभी इधर तो कभी उधर,
  रंग  बिरंगे रंगो वाले देखो,
 चेहरे दिखते बहुत निराले ,
फागुन का महीने में---------


 पिया संग खेली प्रेम होली
  दिल में मेरे बस जाती है
 प्रेम पिया  का पाकर तो
  उनमें ही  मैं रम जाती हूँ
हर यादो में उनके फिर तो
मै शामिल सी हो जाती हूँ
फागुन का महीने में------



रचनाकार-आशा उमेश पान्डेय
            अम्बिकापुर छग


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image