उदगार


      


पूर्वांचल एकता समिति के प्रति
            उदगार
चलो भाइयों प्रेम की ओर,
आपसी कटुता व वैमनस्य छोड़।
करो दिल से दिलों का जुड़ाव,
भर जायेंगे पुरातन घाव।


 सब जानते कि " आत्मा " है पवित्र,
मन में है 'इर्ष्या', शरीर पर लगाते इत्र।
हर शख्स है अपने आप में अनमोल,
उसे इंसानियत के तराजू पर तोल,
स्वार्थवश इंसान का कभी अच्छा
तो कभी बुरा न बनाओ चित्र।


 नित पूरब से निकलता दिवाकर,
हर ज़र्रे ज़र्रे से कहता आकर,
देखो तुम सबके लिए ‌मैं जलता,
अहर्निश पूरब से पश्चिम चलता।


  तुम भी चलो होकर एक,
 शुद्ध करो मति,
तुम हो देश की निधि,
तेरा नाम- "पूर्वांचल एकता समिति"।


 -- विनोद--





Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image