सुखद नरमी सी मिलती है

 



तेरी यादों की चादर में मुझे गरमी सी मिलती है
दुबक के सोई रहती हूं सुखद नरमी सी मिलती है


सदा देखूँ तेरे सपने मैं सोते जागते प्रीतम
नयन में नींद भी अब तो डरी सहमी सी मिलती है


कभी जो बेख्याली में तेरा जब नाम मैं भूलूं
धड़कते दिल के कोने में तेरी ही बात चलती है


कभी सपने में आते हो कभी मिलने बुलाते हो
तेरी आवारगी मुझको सुनों लहरों सी लगती है


नहीं कोई गजल लिखती कभी भी नाम पर तेरे
रियासत तो मुहब्बत की, बड़ी बदनाम मिलती है


किये होंगे समर्पण तो अनेकों ही मुहब्बत में
ये 'रीना' प्यार में तेरे हजारों बार मरती है।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image