शिव भजन

 



भोले भंडारी
आई मै शरण तिहारी
निलकंठ है नाम तुम्हारा,
हे शंकर त्रिपुरारी.....
भोले भंडारी.........


कार्तिक गणपति लाल तुम्हारे
गौरी संग तुम लगते हो प्यारे
माथे पे चंदा हाथों में डमरू
नंदी सजती द्वार तुम्हारे........
हे औघड़ दानी.....
हे शंकर त्रिपुरारी.........


देवों ने जब तुमको पुकारा
दौडे आये दुःख से उबारा,
सब पर करते तुम्ही कृपा प्रभु
दुजा नहीं कोई सा हमारे....
हे विषधर धारी.......
हे शंकर त्रिपुरारी........


गले में सर्पों की माला है
जटा में गंगा की धारा है
भांग धतूरा अति मन भाए
अंग भभूति भष्म रमाए,
अब तो प्रभु आस तुम्हारी,..
सुनियो विनती हमारी.....
हे  शंकर त्रिपुरारी.......
हे भोले भंडारी......


स्वरचित पूनम दूबे अम्बिकापुर छत्तीसगढ़🍃🙏✍✍


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image