शहद-बूंदों सी रसभरी हो जिन्दगी

 




शहद-बूँदों सी रसभरी हो जिन्दगी
फूलों सी सदा महकती हो जिन्दगी


मुश्किलें  राहों में  चाहे  हो कितनी
ऊँचाइयों को सदा छुती हो जिंदगी


दरिया  में चाहे  गहराई  हो कितनी
साहिलों  को  सदा छुती हो जिंदगी


जमाने की खुशियों से भरी हो झोली
परेशानियों  से कोसो दूर  हो जिंदगी


जफाएं  ना कमाएं  किसी  के  लिए
वफाओं से सदा भरपूर  हो  जिंदगी


मधुप  बन  कर के बनाएं  शहद बूंदे
मधु सी मधुरता से भरपूर हो जिंदगी


ठूंठे  आम  सा  कहीं  ना बने जीवन
फल फूलों सी हरी-भरी हो जिन्दगी


सुखविंद्र  रहे तन्हाइयों  से दूर सदा
लहरों सी  लहराती  हुई  हो जिंदगी


सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image