कुकूर जाति

 



हम जब कतहु जाइ,त उहवे कुकुर पाई।
ऊ नोचे चोथे चाहे!हम उहा से हटि जाइ।।
निकली ना लाजे डरे,मन भइलि मरे मरे।
रूप कवन कहि चुप,गावँ महाला घरे घरे।।
झाँकी देखि कबो त,उ फरके से गुर्राइल।
आंख तरेरी दाँत बगारि,लगे चलि आइल।।
भीतर से रही डेराइल,ई हवे कुकुर पागल।
मांस नोच के खाला,चस्का एकरा लागल।।
खून बुन के चूस घुस,मील बाट के खाला।
हवे जीभ चटोर चोर,चाट काट के खाला।।
देखनी उहे कुकुरा,सुखल हड्डी चाटत रहे।
खरकटलो हड्डी के,चाट  काट काटत रहे।।
खुबे खुश रहे ऊ,जे दिन हड्डी काटत रहे।
हड्डी से खून निकाली,जिभि से चाटत रहे।।
डेराला ना लजाला,खून पिए के धुन रहे।
निजे बंश के हड्डी,निजे मुह के खून रहे।।
दिवाकर अइसन कुकुर,रोवत माई छाती।
जाने कबले रही,ई!कुलघाती कुकुर जाति।।


दिवाकर उपाध्याय


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image