कइसे धिया राखीं 

 

 





 

कइसे धिया राखीं धानि घरवा भीतरिया हो 
बहरिया तानवा ना,  

मेहना मारऽता जहनवा हो,  बहरिया....। 

 

केतनन के पँउआ धइलीं सिर के पगरिया हो 

गेंठरिया धनवा ना, 

मांगत बाटे दौलत खनवा हो, बहरिया...। 

 

कहाँ पाईं कहऽ धनिया सोना के गगरिया हो 

सोपरिया पनवा ना, 

देई के करीं कनेया दनवा हो, बहरिया...। 

 

घरवा बेचत बानी आ बेचत हम बधरिया हो 

बेहरिया अनवा ना, 

बेची देब अब मकनवा हो, बहरिया....। 

 

हियवा हो हियवा बिहरऽ जन भीतरिया हो 

पुतरिया दनवा ना, 

बिअहब बेटी के अँगनवा हो, बहरिया....। 

 

विद्या शंकर विद्यार्थी 

24/02/2020




 


 

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image