जो सितारों के गुनहगार हुए डूब गए. 

 



 तैरते तैरते बेज़ार हुए डूब गए
हम मुहब्बत के गुनहगार हुए डूब गए 


हम ख़यालों में तेरे शाम को सूरज की तरह
जब भी तन्हाई से बेज़ार हुए डूब गए 


इश्क़ के बहर में जो डूब गए पार हुए 
और जो लोग यहाँ पार हुए डूब गए 


तुम से पहले भी कई चाँद यहाँ पर उभरे 
जो सितारों के गुनहगार हुए डूब गए. 
 
सुमन धींगरा दुग्गल


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image