जय भोलेनाथ

 








जय भोलेनाथ डमरू धारी त्रिपुरारी के 

संग में विराजे वाला गउरा महतारी के 

 

सिरिफल के पात चढ़े चढ़ेला गंगाजल

जय शिव जय शिव हृदया पुकारी के 

 

शोहेला लिलार चान गर में सरप नाग 

नमन बाटे औघड़दानी भोला भंडारी के 

 

पाँच फेरा पचकरमा सरधा से करतानी 

बिना रउरा नाथ जिनगी भव से उबारी के 

 

बिना भी बतवले नाथ सब कुछ बुझतानी 

अन्हार बरियार के हटाई अउरी टारी के ।

 

विद्या शंकर विद्यार्थी 

21/02/2020

 

 






 


 

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image