धीरे-धीरे चलिए जनाब

 



सफर दूर का है तो जरा
धीरे-धीरे चलिए जनाब!
दो कदम तेज चलकर
थक जाना मंजिल से
आपको दूर धकेल भी सकता हैं!
रास्ते हैं तो काँटें भी है 
देख कर नही चले तो
पाँव लहूलुहान भी हो
सकता है!
आराम से बढ़िये मंजिल पर
जल्दी क्या है ,हुनर है आपमे
तो मंजिल खुद खींच लेगी
आपको अपनी ओर !
बस थोड़ा धैर्य भी रखा कीजिये
अपने पास,ये भी जरूरी है भोजन
पानी और सांस की ही तरह!!!
@शिवानी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image