भगवान परशुराम की आरती

 



सब मिला आरती गाओ रे श्री परशुराम की
....................
हाथ में परशु तेज विराजे धनुष-वाण अती भारी
व्याघ्र छाल तन पे सोहे महिमा गाए त्रिपुरारी...
अक्षत पुष्प चढ़ाओ रे श्री परशुराम की...


जमदग्नि रेणुका के बालक,विष्णु के अवतारी
हम अज्ञानी तेरे बालक आए शरण तिहारी...
चरणन शीश झुकाओ रे श्री परशुराम की.......


जो नर श्री परशुराम को ध्यावे, रिद्धि-सिद्धि धन पावे...
पाठ करे जो नर मन लाई सुख सम्पदा बढ़ावे..
मेवा भोग लगाओ रे श्री परशुराम की........


कृपा करो हे स्वामी मेरे अपना देर लगाओ
मोह अज्ञान का तिमिर हटाओ, ज्ञान की जोत जगाओ
श्रद्धा प्रेम बढ़ाओ रे श्री परशुराम की..


सब भक्तन के संग में तेरे द्वार बिजेंद्र हैं आए
तन मन धन सब अर्पण करके, श्रद्धा सुमन चढ़ाए
सब मिल शीश झुकाओ रे श्री परशुराम की....
सब मिल आरती गाओ रे श्री परशुराम की.....


बिजेंद्र कुमार तिवारी
      बिजेंदर बाबू
गैरतपुर 
मांझी सारण
मोबाइल नंबर:- 7250299200


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image