अनामिका

 



याद है मुझे वो ...
पहला स्पर्श...
वो कम्पन वो सिहरन...
उन सिंहरती सी...
हथेली से...
जुडी वो अनामिका...
जिसका सीधा सम्बन्ध...
हृदय से होता है...
जानते हो तुम...
तुम्हारा ये स्पर्श...
हृदय तक पहुँचा...
अनामिका के माध्यम से...
हृदय जुड सा गया था...
उसी पल...
तुमसे मेरा और...
आज भी वो स्पर्श ...
याद है हृदय को...
बखूबी...!


सुधा भारद्वाज"निराकृति"
विकासनगर उ०ख०


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image