गीता सार

 


पहले दो शब्द


धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे


अंतिम चार शब्द
ध्रुवा नीति मती मम


अब ये शब्द इकट्ठा करके


धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे
ध्रुवा नीति मती मम


धर्मक्षेत्र = परमार्थ
कुरुक्षेत्र = संसार


ध्रुवा= स्थिर
नीति .. नीतिमत्ता
मती ...बुद्धि


अब एकत्रित अर्थ


"परमार्थ हो या संसार, मेरी नीतिमत्ता और बुद्धि स्थिर रहे । 


"व्यवसाय नौकरी
हो या घर संसार
मेरी नीति और मती
स्थिर रहे "
बस इतनी सिख
अगर हर व्यक्ति
अपने आचार विचार आहार विहार में दृढ़ करेगी
तो अपने निजी जीवनमे शांति और
अमन आनेमे देर नही लगेगी ।।


दिवाकर


प्रेरणा के लिए धन्यवाद।


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
डॉ.राधा वाल्मीकि को मिले तीन साहित्यिक सम्मान
Image