साहित्यिक पंडानामा-१३

 


 


 



         -भूपेन्द्र दीक्षित
सच्चा लेखक कभी बिकता नहीं ,न सम्मान के लोभ में, न पुरस्कार के लोभ में और न किसी विभूति के लालच में। कलम की सच्चाई को खरीदा नहीं जा सकता। देखिए यह गजब की कविता। इसको कविता कहते हैं-
वो आपका सब कुछ…..
सब कुछ…!!!
अपनी तरह का चाहते हैं 


आपकी भाषा..
आपके शब्द.. 
आपके तेवर.. 
आपका गुस्सा.. 
आपकी बगावत.. 
यहाँ तक की आपके बोलने का अन्दाज़ भी 
गोया आप उनकी देहरी पर बँधे कुत्ते हैं !


गर उनके जूँ लगे कानों में हमारी आवाज़ पहुँचे
गर उनकी पाखण्डी निर्बुद्धिता कुछ देर को
त्यागे अपना दकियानूसी प्रलाप
तो हम यह बताना चाहते है 


उसूलों की लड़ाई में 
इश्तेहारी समझौते नहीं होते 
बात जब किसी के हक़ की हो
तो कोई बीच का रास्ता नहीं होता
सिद्धान्तों की सौदेबाज़ी नहीं होती
सत्य कहने वाले शब्द बिकते नहीं है !(महाभूत चंदन राय)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image