प्रश्नचिन्ह सी जिंदगी

 


 


 



जिंदगी प्रश्नचिन्ह बनकर आ गई
हर तरफ अंधेरे की लहर छा गई।
एक किरण सी आंखें चुंधिया गईं,
लगा कोई रोशनी जीवन में आ गई।


कुछ खुशियां भ्रम बनकर आईं,
कानों में गूंजी ऐसी शहनाई।
कि हर आवाज को दबा गई,
सूनापन ले जिंदगी फिर आ गई।


प्रश्नचिन्ह से क्यों तुम हो गए,
क्यों तुम्हारे शब्द मौन हो गए?
क्यों धड़कनों को ना सुन‌ पाए,
क्यों आंसुओं को ना चुन पाए?


दर्द की आंधी फिर क्यों आ गई?
क्यों जीवन नौका फिर डुबा गई?
लहर गम की नाव पर क्यों छा गई,
क्यों समंदर की गहराई फिर भा गई ?


है प्रश्न अनंत मुझको घेरे हुए,
जो लगे अपने ना कभी मेरे हुए।
बोलते थे कि लो हम तेरे हुए,
साये थे वो कुछ कहां मेरे हुए।


कौशल बंधना पंजाबी।(स्वरचित)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image