ओ ! पिया क्यों दूर मुझसे?

 


 



हक़ दिया था पूर्णता का।
मन रहस्यी गूढ़ता का ।।
फिर नहीं स्वीकार हिस्से ।
ओ ! पिया क्यों दूर मुझसे ?


प्रश्न ही नही तुम हो उत्तर।
तुम विभा का प्रेम अवसर।।
वो मिले ना सांध्य किस्से ।
ओ! पिया क्यों दूर मुझसे?


है रहस्यी लौ पिया तू ।
छवि है धूमिल दर्पणों की।।
तू बता ना मिलेगा मुझसे।
ओ! पिया क्यों दूर मुझसे?


तू विचारों का है नभ मन।
स्वर्ण आभा सा उदित तन।।
क्यो दिया तू दर्द गुच्छे ।
ओ !पिया क्यों दूर मुझसे ?


वंदना सिंह 'त्वरित'


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image