मेरे हाल पर छोड़ दो

 



सांचे में अपने मुझको ढा़ल कर छोड़ दो


ऐसा न हो कि तुम संभाल कर छोड़ दो

बाद के फिर दिलासों का क्या फायदा

मुझको बस तुम मेरे हाल पर छोड़ दो

 

अब ये तुम सोच लो आना चाहो अगर

सुन लो आने की दो चार शर्तें मगर

आ जो जाओ तो जाना नहीं होगा फिर

साथ होगा निभाना ये सारी उमर

 

एक महल तेरे ख्वाबों का बनाउंगा मैं

तुम जो रूठी अगर तो मनाउंगा मैं

सांस टूटेंगी पर टूटेगा रिश्ता नहीं 

सात जन्मों तलक ये निभाउंगा मैं 

 

विक्रम कुमार

मनोरा , वैशाली

Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image