कौन इसे समझे

 



 


कितनी बातें  सुनती हूँ मैं
कितनी पीड़ा सहती हूँ मैं
फिर कुछ   लिखती हूँ मैं
कौन इसे समझे ?
बूँद बूँद   लाया   है   कैसे
फिर उसको बरसाया कैसे
यह तो घन समझे।
कौन इसे समझे?
हम तो देखें हरियाली ही
पानी पानी बस पानी ही
घन कितना तरसे।
कौन इसे  समझे? 
अधरों पर मेरी मुस्कानें
कितनी वेदनाएं  थकानें
कब नैन मेरे बरसे?
कौन इसे समझे?


 


डा. ज्ञानवती दीक्षित


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
क्षितिज के उस पार •••(कविता)
Image
मर्यादा पुरुषोत्तम राम  (दोहे)
Image