दोहे

 



नेताओं का शगल है,सत्ता हित संघर्ष।
जनता का होता नहीं,इसीलिए उत्कर्ष।।1


नेताओं  के  पास  जा ,रोते  बैठ उसूल।
आदर्शों की बात तो,उनको लगे फिजूल।।2


राजनीति ने ले लिया,देखो कैसा मोड़।
करती है बेमेल से,कुर्सी हित गठजोड़।।3


राजनीति में है नहीं,कोई कभी अछूत।
गठबंधन बेमेल का,इसका बड़ा सबूत।।4


मिलती है मंजिल उसे,जो भी करे प्रयास।
बिना परिश्रम व्यर्थ है,चमत्कार की आस।।5



                 डाॅ बिपिन पाण्डेय


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image