अवधी हमार:२१

 



                -डा•ज्ञानवती
वैशेषिक दर्शन केरे द्वितीय अध्याय मां  जल मां रूप , रस और स्पर्श , इन तीन गुणन केरा समावेश बतावा गा  है | जल स्निग्ध होयके  साथ - साथ प्रवाहितौ  होत है | प्रत्यक्ष स्वरूप होयके कारण जल रूपवानौ  है | जल का मुख मां डालै पर शीतल , गरम , खार ,मधुर केर  रसास्वादन होय से ई रस है | जल का स्पर्श करै पर  ईके शीत और उष्ण होय का पता चलत है। ई लिए जल, स्पर्श गुणौ से सम्पन्न है और अग्नि और वायु के गुणन केर
  मेलौ  है | जल केर उपयोग चिकित्सौ के लिए  कीन जात रहा है। यजुर्वेद मां कहा गा है -


" युष्माSइन्द्रोSवृणीत वृत्रतूर्य्ये यूयमिन्द्र्मवृणीध्वं
वृत्रतूर्य्ये प्रोक्षिता स्थ | अग्नये त्वा जुष्टं
प्रोक्षाम्यग्नीषोमाभ्यां त्वा जुष्टं प्रोक्षामि | 
दैव्याय कर्मणे शुन्धध्वं देवयज्यायै यद्वोSशुध्दा:
पराजघ्नुरिदं वस्तच्छुन्धामि | | १ ३ | |"


यजुर्वेद केरे प्रथम अध्याय मां कहा गा कि जइसे ई सूर्यलोक मेघ के बरसै के लिए जल का स्वीकार करत है , जइसे जल वायु का स्वीकार करत है , वैसेइ  मनुष्यौ  उन जल औषधि - रसन का शुद्ध करै के लिए , मेघ केरे शीघ्र - वेग मां , लौकिक पदार्थन का अभिसिंचन करै वाले जल का स्वीकार करै और जइसे वै जल शुद्ध होत हैं , वैसन  वहू  शुद्ध होइ जाय |


परमात्मा सूर्य  और अग्नि केरी रचना यहे लिए किहिन कि वे सबै पदार्थन मां प्रवेश कै के उनके रस और जल का फैलाय देंय ,जी से ऊ पुन: वायुमंडल मां जायके और वर्षा करैं  और धरती पर सबका शुचिता और सुख प्रदान कै सकैं |


"आपोSअस्मान् मातरः शुन्धयन्तु घृतेन नो घृतप्व: पुनन्तु ।
विश्व हि रिप्रं प्रवहन्ति देवीरुदिदाभ्य: शुचिरा पूतSएमि |
दीक्षातपसोस्तनूरसि तां त्वा शिवा शग्मां परिदधे भद्रं वर्णम पुष्यन् ।"
।। यजुर्वेद, ४ , २ ।।


हम सबका चाही कि  जल से शुचिता का प्राप्त कै के , जल केर शोधन करै के बाद ,ऊका उपयोग कीन जाय, जीसे देह का सुंदर वर्ण , रोग - मुक्ति, पुरुषार्थ सेने आनंद केरी प्राप्ति होय सकै ।


वैदिक ऋषिव वैज्ञानिकन केरी तना जल और वायु केरे प्रदूषण से मुक्त करै केरी बात कहिन है । यजुर्वेद मां वै यहौ परामर्श  दिहिन है कि हम लोग वर्षा - जल का कइसे औषधी गुणन  से परिपूर्ण कै सकित हैं ।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image